Business

कोरोना की मार से उबरने लगी है इकॉनमी, सितंबर का डेटा दे रही राहत


नई दिल्ली
क्या कोरोना से अब भारत की इकॉनमी उबरने लगी है? यह सवाल इसलिए क्योंकि वित्त मंत्रालय ने शनिवार को कहा कि सितंबर के महीने में आर्थिक आंकड़े वृद्धि के सामान्य स्थिति की ओर आने के ‘विश्वसनीय संकेत’ संकेत दर्शा रहे हैं और सरकार लोगों की तकलीफ को दूर करने के लिए कोई भी कदम उठाने से पीछे नहीं हटेगी। सितंबर महीने का मैन्युफैक्चरिंग पीएमआई इंडेक्स साढ़े आठ सालों के उच्चतम स्तर पर रहा और जीएसटी कलेक्शन भी चालू वित्त वर्ष में अब तक सबसे ज्यादा रहा है।

सितंबर में PMI इंडेक्स बढ़कर 56.8 पर
एक मासिक सर्वे के अनुसार नए ऑर्डरों और उत्पादन में बढ़ोतरी से सितंबर में मैन्युफैक्चरिंग ऐक्टिविटी करीब साढ़े आठ साल के उच्चस्तर पर पहुंच गई हैं। IHS मार्किट इंडिया का पर्चेजिंग Purchasing Managers’ Index (PMI) सितंबर में बढ़कर 56.8 पर पहुंच गया। अगस्त में यह 52 पर था। जनवरी, 2012 के बाद यह PMI का सबसे ऊंचा स्तर है। PMI के 50 से ऊपर रहने का अर्थ है कि गतिविधियों में विस्तार हो रहा है, जबकि 50 से कम संकुचन को दर्शाता है।

पंजाब में किसानों का ‘रेल रोको’ आंदोलन जारी, रविवार को ये ट्रेनें कैंसल

सरकार की तरफ से हर संभव उपाय किए गए हैं
मंत्रालय ने कहा कि कोविड-19 संकट के पिछले छह महीनों के दौरान राजकोषीय प्रोत्साहन (Fiscal Stimulus) और राहत देने के साथ ही सभी हितधारकों और नागरिकों की चिताओं को दूर करने के लिए हर संभव उपाय किए गए है। वित्त मंत्रालय ने आगे कहा कि अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए मांग और आपूर्ति दोनों को बढ़ाने के लिए मदद की गई।

डिमांड और सप्लाई बढ़ाने पर सरकार का जोर
मंत्रालय ने एक बयान में कहा कोरोना वायरस महामारी के दौरान सरकार के उपायों का असर अब दिखने लगा है और सितंबर के महीने के आंकड़े आर्थिक वृद्धि के सामान्य स्थिति की ओर आने के विश्वसनीय संकेत दे रहे हैं। बयान में आगे कहा गया कि अर्थव्यवस्था और लोगों की आजीविका पर कोविड-19 के प्रकोप को कम करने के लिए सभी संभावनाएं खुली हैं और ‘वित्त मंत्री को लोगों की पीड़ा दूर करने के लिए किसी भी उपाय से परहेज नहीं है।’

जल्द महंगा होने वाला है स्मार्टफोन, खरीदने की तैयारी में हैं तो देरी ना करें

जीएसटी कलेक्शन चालू वित्त वर्ष में सबसे ज्यादा
मंत्रालय की तरफ से जारी बयान में कहा गया कि फेज वाइज लॉकडाउन से राहत मिलने के कारण इकॉनमी को मोमेंटम मिल रहा है। बता दें कि सितंबर महीने में जीएसटी कलेक्शन 95480 करोड़ रहा जो सितंबर 2019 के मुकाबले 4 पर्सेंट ज्यादा है। इसके अलावा यह आंकड़ा चालू वित्त वर्ष में सबसे ज्यादा है। सितंबर महीने में मैन्युफैक्चरिंग पीएमआई इंडेक्स पिछले साढ़े सालों के उच्चतम स्तर पर है।

लोन लेने वालों के लिए अच्छी खबर, नहीं लगेगा ब्याज पर ब्याज



Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may also like

%d bloggers like this: