Business

पाकिस्तान को जी20 देशों से 80 करोड़ डॉलर की ऋण राहत मिली: रिपोर्ट


डिसक्लेमर:यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।

| Updated: 22 Nov 2020, 10:27:00 PM

इस्लामाबाद, 22 नवंबर (भाषा) नकदी संकट से जूझ रहे पाकिस्तान को जी20 के 14 सदस्य देशों से 80 करोड़ अमेरिकी डॉलर की ऋण राहत मिली है, जबकि उसे सऊदी अरब और जापान सहित समूह के छह अन्य देशों से अभी भी पुष्टि की दरकार है। एक मीडिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई। दुनिया के 20 सर्वाधिक धनी देशों के समूह से पाकिस्तान ने इस साल अगस्त तक 25.4 अरब डॉलर लिए थे। इस साल 15 अप्रैल को जी20 देशों ने पाकिस्तान सहित 76 देशों के ऋण पुनर्भुगतान को मई से दिसंबर 2020 तक रोकने की घोषणा की थी, हालांकि

 

इस्लामाबाद, 22 नवंबर (भाषा) नकदी संकट से जूझ रहे पाकिस्तान को जी20 के 14 सदस्य देशों से 80 करोड़ अमेरिकी डॉलर की ऋण राहत मिली है, जबकि उसे सऊदी अरब और जापान सहित समूह के छह अन्य देशों से अभी भी पुष्टि की दरकार है। एक मीडिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई। दुनिया के 20 सर्वाधिक धनी देशों के समूह से पाकिस्तान ने इस साल अगस्त तक 25.4 अरब डॉलर लिए थे। इस साल 15 अप्रैल को जी20 देशों ने पाकिस्तान सहित 76 देशों के ऋण पुनर्भुगतान को मई से दिसंबर 2020 तक रोकने की घोषणा की थी, हालांकि इसके लिए प्रत्येक देश द्वारा औपचारिक अनुरोध करने की शर्त लगाई गई। एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने सरकारी सूत्रों के हवाले से बताया कि पिछले सात महीनों के दौरान 14 देशों ने पाकिस्तान के साथ अपने समझौतों की पुष्टि की, जिससे फिलहाल इस्लामाबाद को 80 करोड़ डालर की ऋण राहत मिली है। रिपोर्ट के मुताबिक इन 14 देशों के अलावा दो अन्य देशों ने भी पाकिस्तान को ऋण राहत देने के लिए संपर्क किया था। आधिकारिक दस्तावेजों के अनुसार पाकिस्तान ने अभी तक जापान, रूस, सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात और यूनाइटेड किंगडम के साथ ऋण पुनर्गठन के नियमों को अंतिम रूप नहीं दिया है। आर्थिक मामलों के मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि इन छह देशों ने अभी तक ऋण राहत संबंधी समझौतों की पुष्टि नहीं की है, लेकिन इन देशों के साथ अगले महीने के अंत तक समझौता पूरा होने की उम्मीद है।

Navbharat Times News App: देश-दुनिया की खबरें, आपके शहर का हाल, एजुकेशन और बिज़नेस अपडेट्स, फिल्म और खेल की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म… पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें डाउनलोड करें NBT ऐप

लेटेस्ट न्यूज़ से अपडेट रहने के लिए NBT फेसबुक पेज लाइक करें



Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may also like

%d bloggers like this: