India

राहुल गांधी की किसान रैली में हाथरस की गूंज, ‘विक्टिम को इंसाफ की जगह CM-DM ने दी धमकी’


हाइलाइट्स:

  • कृषि कानून के विरोध और किसानों के समर्थन में पंजाब के मोगा में कांग्रेस ने खेती बचाओ यात्रा निकाली
  • मोगा की किसान बचाओ रैली में राहुल गांधी ने हाथरस गैंगरेप मामला उठाते हुए योगी सरकार पर हमला बोला
  • राहुल ने कहा कि यूपी में स्थिति इतनी खराब है कि जिस परिवार की बेटी मर गई उसी को डीएम धमकी दे रहे

मोगा
कृषि कानून के विरोध और किसानों के समर्थन में पंजाब के मोगा में कांग्रेस ने खेती बचाओ यात्रा निकाली। मोगा की रैली में राहुल गांधी ने हाथरस मामला उठाते हुए योगी सरकार पर हमला बोला। राहुल ने कहा कि यूपी में स्थिति इतनी खराब है कि जिस परिवार की बेटी मर गई उसी को सीएम और डीएम धमकी दे रहे हैं।

राहुल गांधी ने रैली में कहा, ‘मैं यूपी गया था जहां एक बेटी को मारा गया। हत्यारों के खिलाफ कोई ऐक्शन नहीं लिया गया। जिस परिवार की बेटी मर गई उन्हें उनके घर पर लॉक कर दिया गया। डीएम और सीएम ने धमकी दी। भारत में यह स्थिति है। अपराधियों को कुछ नहीं हुआ लेकिन विक्टिम के खिलाफ ऐक्शन हो गया।’

‘कोरोना के बीच कानून लागू करने की क्या जरूरत’
राहुल गांधी ने कृषि कानून को लेकर सरकार पर हमला बोलते हुए कहा, ‘कोविड-19 के बीच इन कानूनों को लागू करने की क्या जरूरत थी? इतनी जल्दी क्या थी? अगर आपको इसे लागू करना था तो लोकसभा-राज्यसभा में पहले चर्चा करनी चाहिए थी। पीएम मोदी का कहना है कि किसानों के लिए कानून लागू किए जा रहे हैं। अगर ऐसा था तो इस पर सदन पर खुली चर्चा क्यों नहीं हुई।’

‘कांग्रेस सत्ता में आई तो कानूनों को हटाकर फेंक देगी’
राहुल ने आगे कहा, ‘अगर किसान इन कानून से खुश हैं तो क्यों देशभर में प्रदर्शन कर रहे हैं। क्यों पंजाब का हर किसान प्रदर्शन कर रहा है?’ राहुल ने आगे कहा, ‘मैं आपको गारंटी देता हूं कि जिस दिन कांग्रेस की सरकार सत्ता में आई तो इन तीन काले कानून को हटाकर वेस्ट पेपर बास्केट में फेंक देगी।’

अमेरिका की असफल प्रणाली थोपने की कोशिश कर रहे- सिद्धू
किसान बचाओ यात्रा में कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू काफी दिनों बाद दिखाए दिए। सिद्धू ने रैली में कहा, ‘वे अमेरिका का फेल सिस्टम हम पर थोपने की कोशिश कर रहे हैं। पूंजीपति देश को चला रहे हैं। हम पर थोपने की कोशिश कर रहे हैं। पूंजीवादी इस देश को चला रहे हैं। किसानों को मिलने वाले लाभ को ‘सब्सिडी’ का लेबल लगाया जाता है, जबकि अमीरों को दिए गए लाखों रुपये की छूट को इंसेटिव कहा जाता है।’

जब तक एमएसपी अनिवार्य नहीं होती, कोई फायदा नहीं- कैप्टन
रैली सीएम अमरिंदर सिंह ने कहा, ‘जब तक संसद में पारित कानूनों में न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) को अनिवार्य करने के लिए संशोधन नहीं किया जाता है, तब तक उनके वादों का कोई फायदा नहीं है।’



Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may also like

%d bloggers like this: