Business

Covid Vaccination: आपके घर के पास वाले मॉल में भी लग सकती है कोरोना वैक्सीन, जानें कैसे?


हाइलाइट्स:

  • शॉपिंग मॉल ऑपरेटर की इस संस्था के पास देशभर में 1650 शॉपिंग मॉल है
  • इससे राज्य सरकार को कोरोना टीकाकरण अभियान में तेजी लाने में मदद मिल सकती है
  • मॉल में एक बार में बड़ी संख्या में लोगों को टीका लगाने में मदद मिल सकती है

भारत में शॉपिंग मॉल के एक प्रमुख संगठन ने राज्य सरकारों को एक पत्र लिखकर कहा है कि मॉल के इंफ्रास्ट्रक्चर का कोरोनावायरस वैक्सीनेशन (Covid Vaccination) कैंप के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। शॉपिंग मॉल ऑपरेटर की इस संस्था के पास देशभर में 1650 शॉपिंग मॉल (shopping mall) है। शॉपिंग मॉल ऑपरेटर्स का कहना है कि इससे राज्य सरकार को कोरोना टीकाकरण (Covid Vaccination) अभियान में तेजी लाने में मदद मिलेगी। केंद्र सरकार ने 1 मई के बाद से 18 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों को कोरोनावायरस टीका लगाने का अभियान शुरू किया है।

यह भी पढ़ें: एक साल में 850 फीसदी उछला यह मिडकैप शेयर, आप करेंगे निवेश

बड़े पैमाने पर टीकाकरण में मदद
शॉपिंग मॉल के पास पर्याप्त इंफ्रास्ट्रक्चर, सुरक्षित पार्किंग सुविधा और ट्रेनिंग रूम जैसी सुविधाएं होती हैं। बड़े कोरोना वैक्सीनेशन कैंप के लिए मॉल सरकार को काफी जगह मुहैया करा सकते हैं। शॉपिंग सेंटर एसोसिएशन ऑफ इंडिया (Shopping Centres Association of India ) ने सरकार से यह रिक्वेस्ट किया है कि सरकार कोरोना टीका करण के लिए शॉपिंग मॉल का इस्तेमाल करें। शॉपिंग सेंटर एसोसिएशन ऑफ इंडिया के पास देश भर में 1650 शॉपिंग मॉल है। इनमें से 650 शॉपिंग मॉल एक लाख वर्ग फीट से ज्यादा जगह वाले हैं।

कोरोना का चेन तोड़ने में आसानी
शॉपिंग सेंटर एसोसिएशन ऑफ इंडिया (Shopping Centres Association of India ) ने राज्य सरकारों को एक पत्र लिखकर यह अनुरोध किया है। इस पत्र में लिखा गया है, “अगर राज्य सरकार शॉपिंग मॉल में कोरोनावायरस वैक्सीनेशन का ड्राइव शुरू करती है तो इससे कोरोनावायरस संक्रमण के चेन को तोड़ने में और एक बार में बड़ी संख्या में लोगों को टीका लगाने में मदद मिल सकती है।” एसोसिएशन ने देशभर के मॉल और शॉपिंग सेंटर को अपने यहां कोरोनावायरस के लिए जगह उपलब्ध कराने का भी अनुरोध किया है।

कोरोना संकट बढ़ने से कारोबार गिरा
देश में कोरोनावायरस की दूसरी लहर में कारोबार पर काफी असर डाला है। कई राज्य सरकारों ने अपने इलाके में कोरोना संक्रमण की चैन तोड़ने के लिए नाइट कर्फ्यू और वीकेंड लॉक डाउन का ऐलान किया है। इस वजह से शॉपिंग सेंटर और मॉल के कारोबार पर काफी असर पड़ा है। मॉल एसोसिएशन ने कहा है कि अप्रैल में उद्योग जगत का कारोबार करीब आधा रह गया है। इस साल मार्च में मॉल और शॉपिंग सेंटर का कारोबार धीरे-धीरे पटरी पर आने लगा था, लेकिन कोरोनावायरस के बढ़ते केस की वजह से उन्हें फिर से बंद करना पड़ा है। एससीएआई के प्रवक्ता ने कहा, “कोरोनावायरस संक्रमण से पहले शॉपिंग मॉल का कारोबार औसतन ₹15,000 करोड़ हर महीने का कारोबार कर रहा था। मार्च 2021 में भी कारोबार इसी लेवल पर पहुंच गया था, लेकिन स्थानीय स्तर पर प्रतिबंध लगने की वजह से अब यह 50 फीसदी रह गया है।”

यह भी पढ़ें: देश में कोरोना के गहराते संकट के बाद भी शेयर बाजार पर इसका असर क्यों नहीं दिखा है?

डाकघर की सेविंग्स स्कीम्स, किस सर्विस पर कितना चार्ज



Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may also like

%d bloggers like this: