India

Cyclone Gulab News : गुलाब! ना ना ये फूल नहीं भयंकर चक्रवात तूफान है, जानें कैसे पड़ता है नाम


हाइलाइट्स

  • चक्रवात ‘गुलाब’ को लेकर आंध्रप्रदेश और ओडिशा में अलर्ट जारी
  • चक्रवात गुलाब से पहले ताउते और फिर यास ने दी थी दस्तक
  • इस क्षेत्र में अगले चक्रवात तूफान का नाम कतर की तरफ से होगा

नई दिल्ली
बंगाल की खाड़ी में बन रहे कम दबाव की वजह से चक्रवात तूफान ‘गुलाब’ को लेकर आंध्रप्रदेश और ओडिशा में अलर्ट जारी किया गया है। इस तूफान के उत्तरी आंध्र प्रदेश और दक्षिण ओडिशा के तट से रविवार की शाम को 75 से 85 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गुजरने की संभावना है। इसकी अधिकतम गति 95 किलोमीटर तक होने का अनुमान जताया गया है। इसकी वजह से इलाके में भारी बारिश होने की संभावना है।

पाकिस्तान ने दिया है नाम
इस बार के चक्रवात का नाम ‘गुलाब’ पड़ोसी देश पाकिस्तान ने दिया है। ‘गुलाब’ शब्द एक बारहमासी फूल वाले पौधे को संदर्भित करता है। आईएमडी के ऑफिशियल नोटिफिकेशन के अनुसार उष्णकटिबंधीय चक्रवात गुलाब का नाम ‘गुल-आब’ रखा गया है। विश्व मौसम विज्ञान संगठन (डब्ल्यूएमओ) प्रत्येक उष्णकटिबंधीय चक्रवात बेसिन के नामों की एक लिस्ट रखता है जो नियमित आधार पर बदलता है। इससे पहले देश में चक्रवात ताउते और यास आया था।

Cyclone Yaas: ताउते के बाद ‘यास’ के गंभीर चक्रवाती तूफान में बदलने की आशंका, मौसम विभाग बोला- मचा सकता है तबाही
ESCAP पैनल के 13 सदस्य देश करते हैं फैसला
संयुक्त राष्ट्र की इकोनॉमिक एंड सोशल कमीशन फॉर एशिया एंड पैसिफिक (ESCAP) पैनल के 13 सदस्य देश भारत, बांग्लादेश, म्यांमार, पाकिस्तान, मालदीव, ओमान, श्रीलंका, थाईलैंड, ईरान, कतर, सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात और यमन हैं। प्रत्येक देश को एल्फाबेटिकल आधार पर इस क्षेत्र में बनने वाले अगले चक्रवात का नाम रखते हैं। इसलिए म्यांमार के ताउते के बाद, सूची में अगला नाम ओमान का ‘यास’ था। यह एक फारसी शब्द है, जिसका अर्थ है जैस्मीन, एक सुगंधित फूल।

…तो अगले चक्रवात का नाम शाहीन होगा
हालांकि आने वाले चक्रवातों के नाम पहले से ही तय कर लिए जाते हैं। इस क्षेत्र में 150 से अधिक चक्रवाती तूफान बनने के लिए नामों की एक अप्रूव लिस्ट पहले से ही है। इसलिए, ‘यास’ के बाद बनने वाले चक्रवात तूफान का नाम ‘गुलाब’ भी पहले से ही तय था। इसे पाकिस्तान ने चुना है। खास बात है कि अगर इस क्षेत्र में कोई अगला तूफान आता है तो उसका नाम ‘शाहीन’ होगा। यह नाम कतर ने दिया है।

Cyclone Tauktae News : म्यांमार ने दिया है साल के पहले चक्रवाती तूफान का नाम, जानें क्या है तौकते का मतलब
नाम रखने में इन बातों का रखा जाता है ध्यान
विश्व मौसम विज्ञान संगठन (डब्लूएमओ), संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक आयोग एशिया और प्रशांत (ईएससीएपी) उष्णकटिबंधीय चक्रवातों पर पैनल उत्तरी हिंद महासागर-बंगाल की खाड़ी-अरब सागर क्षेत्र में चक्रवात के नामों पर निर्णय लेते हैं। चक्रवात का नाम हमेशा छोटा, उच्चारण करने और याद रखने में आसान होता है। इसे इस तरह से चुना जाता है कि यह दुनिया भर में आबादी के किसी भी समूह की भावनाओं को आहत न करे, यहां तक कि मामूली तरीके से भी। यह संक्षिप्त, उच्चारण में आसान और किसी भी सदस्य के लिए अपमानजनक नहीं होना चाहिए।

तूफान से निपटने की तैयारियों की समीक्षा
तूफान की वजह से आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम, विजयनगरम और विशाखापत्तनम जबकि ओडिशा के गंजम और गजपति जिलों के प्रभावित होने की आशंका है। आधिकारिक बयान के मुताबिक कैबिनेट सचिव राजीव गौबा की अध्यक्षता में एनसीएमसी ने केंद्रीय मंत्रालयों, एजेंसियों और राज्य सरकारों की बंगाल की खाड़ी में उठे तूफान से निपटने की तैयारियों की समीक्षा की।


एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीम तैनात
‘गुलाब’ चक्रवात के गुजरने की आशंका है जिसके मद्देनजर बचाव और राहत कार्यों के लिए उत्तर तटीय आंध्र जिलों में राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के तीन और राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) के एक दल को तैनात किया गया है। प्रशासन की तरफ से विशाखापत्तनम, विजयनगरम और श्रीकाकुलम जिलों में निचले इलाकों से लगभग 86,000 परिवारों को राहत शिविरों में स्थानांतरित करने की को योजना बनाई गई है।

27 सितंबर तक समुद्र में न जाने की सलाह
श्रीकाकुलम में एनडीआरएफ के दो दलों को तैनात किया गया है जहां चक्रवात का अधिक प्रभाव हो सकता है। इसके अलावा विशाखापत्तनम में एक दल को तैनात किया गया है। विशाखापत्तनम में एसडीआरएफ के एक दल को भी इमरजेंसी स्थिति के लिए तैयार रखा गया है। राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने इन जिलों के मछुआरों से 27 सितंबर तक समुद्र में न जाने को कहा है।

cyclone gulab



Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may also like

%d bloggers like this: