Business

पी-नोट्स के जरिये निवेश अगस्त अंत तक 97,744 करोड़ रुपये पर पंहुचा


नयी दिल्ली 17 सितंबर (भाषा) घरेलू पूंजी बाजार में पी-नोट्स (पार्टिसिपेटरी नोट्स) के जरिये निवेश में लगातार वृद्धि जारी है। अगस्त महीने के अंत तक यह 97,744 करोड़ रुपये पर पहुंच गया।

पी-नोटस दरअसल पंजीकृत विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) विदेशी निवेशकों को जारी किए जाते हैं, जो बिना पंजीकरण के भारतीय शेयर बाजार में निवेश करना चाहते हैं। हालांकि, उन्हें पूरी जांच-परख की प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है।

बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) के आंकड़ों के अनुसार शेयर, बांड, हाइब्रिड सिक्योरिटीज और डेरिवेटिव्स समेत भारतीय पूंजी बाजार में पी-नोट्स निवेश अगस्त 2021 के अंत में 97,744 करोड़ रुपये पहुंच गया, जो जुलाई के अंत में 85,799 करोड़ रुपये था।

सेबी ने हालांकि जुलाई के आंकड़ों को संशोधित किया है, जिसे पहले 1,01,798 करोड़ रुपये बताया गया था।

सेबी की वेबसाइट पर जारी जानकारी के अनुसार, ‘‘एक एफपीआई ने जुलाई 2021 के महीने के लिए 15,999 करोड़ रुपये मूल्य के निवेश की गलत या अधिक मूल्य की जानकारी दी थी। इसके कारण जुलाई, 2021 के आंकड़ों में संशोधन किया गया है।’’

इससे पहले जून अंत तक पी-नोट्स निवेश 92,261 करोड़ रुपये, मई अंत तक 89,743 करोड़ रुपये, अप्रैल अंत तक 88,447 करोड़ रुपये तथा मार्च के अंत में 89,100 करोड़ रुपये था।

पी-नोट्स के जरिये अगस्त तक किये गए कुल 97,744 करोड़ रुपये के निवेश में 89,844 करोड़ रुपये का निवेश इक्विटी, 7,586 करोड़ रुपये का निवेश ऋण तथा हाइब्रिड सिक्योरिटीज के माध्यम से 315 करोड़ रुपये का निवेश किया गया।

रिलायंस सिक्योरिटीज के मुख्य व्यवसाय अधिकारी दीपक सिंह ने कहा, ‘‘पी-नोट्स में वृद्धि दर्शाता है कि भारतीय बाजारों में एफपीआई निवेश निरंतर आधार पर बढ़ रहा है।’’

उन्होंने कहा कि भारत पूंजीगत खर्च के पुनरुद्धार चरण की शुरुआत में है। कॉरपोरेट की आय में सुधार टिकाऊ दिख रहा है और प्रीमियम मूल्यांकन बरकरार रह सकता है।



Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may also like

%d bloggers like this: